प्रधानमंत्री ने 27 अप्रैल को मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी, तब देशभर में कोरोना के मामले 28 हजार थे, अब आंक़़डा करीब 63 हजार, प्रवासियों की वापसी के कारण कोरोनावायरस के मामले बढे, ग्रीन जोन जल्द ही रेड जोन में बदले जाएंगे

  • रविवार को कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गौबा ने सभी राज्यों के चीफ सेक्रेटरी और हेल्थ सेक्रेटरी से बात की थी
  • प्रवासी मजदूरों की वापसी पर कई राज्यों ने शिकायत की- मजदूरों के मूवमेंट से कोरोना के मामले बढ़े

    The Prime Minister had a meeting with the Chief Ministers on 27 April, when the cases of corona were 28 thousand all over the country, now the figure is around 63 thousand, due to return of migrants, coronavirus cases increase, green zone will soon be changed to red zone

समाचार आज तक , May 11, 2020,

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सभी मुख्यमंत्रियों के साथ पांचवीं बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करेंगे। बैठक दोपहर 3 बजे से रात 8 बजे तक चलेगी, जिसमें सभी मुख्यमंत्रियों को बात रखने का मौका मिलेगा। लॉकडाउन का तीसरा फेज 17 मई को खत्म हो रहा है।  सरकारी सूत्रों के अनुसार, बैठक में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने तथा कोरोना के ज्यादा मामले वाले ‘रेड जोन’ को ‘ऑरेंज’ या ‘ग्रीन’ जोन में बदलने के लिए प्रयासों पर भी चर्चा होगी। मालूम हो कि इससे पहले जब प्रधानमंत्री ने 27 अप्रैल को मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी, तब देशभर में कोरोना के मामले 28 हजार से कुछ ही ज्यादा थे। लेकिन अब यह आंक़़डा करीब 63 हजार तक पहुंच गया है।  ऐसे में मोदी मुख्यमंत्रियों से कोरोना से निपटने की रणनीति, लॉकडाउन की बंदिशें कम करने और आर्थिक गतिविधियां बढ़ाने पर सुझाव मांग सकते हैं। दूसरी ओर, केंद्र सरकार का फोकस अब इकोनॉमी को गति देने के लिए राज्यों में कामकाज शुरू कराने पर है।

कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने रविवार को राज्यों के चीफ सेक्रेटरी (मुख्य सचिव) और हेल्थ सेक्रेटरी (स्वास्थ्य सचिव) से बात की थी। गौबा ने कहा कि अब राज्य सरकारों को आर्थिक गतिविधियां चालू करने पर जोर देना चाहिए। सरकार प्रवासियों के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चला रही है। सभी राज्य इसमें ज्यादा से ज्यादा सहयोग करें और वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों में फंसे लोगों की लौटने में मदद करें।

कई राज्यों ने रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन पर सवाल उठाए

सूत्रों के अनुसार, कैबिनेट सेक्रेटरी के साथ चर्चा में कई राज्यों ने रेज, ग्रीन और ऑरेंज जोन में बनाए गए नियमों पर सवाल उठाए। कुछ राज्यों ने प्रवासियों की वापसी पर चिंता जताई थी। इन राज्यों का कहना है प्रवासियों की वापसी के कारण कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे हैं, ऐसे में जो इलाके ग्रीन जोन में हैं, वे जल्द ही रेड जोन में बदल जाएंगे।

तीन बार बढ़ चुका है लॉकडाउन

  • प्रधानमंत्री मोदी ने सबसे पहले 25 मार्च से लॉकडाउन की घोषणा की थी। पहला लॉकडाउन 21 दिन के लिए लगाया गया था। इसे 14 अप्रैल को खत्म होना था। इसके बाद लॉकडाउन 19 दिन और बढ़ा दिया गया था। तीन मई को खत्म हो रहे लॉकडाउन को फिर से 14 दिन बढ़ा दिया गया है। अब 17 मई को लॉकडाउन खत्म होगा।

सोमवार को मोदी 51 दिनों में पांचवीं बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करेंगे। इससे पहले उनकी मुख्यमंत्रियों के साथ चार बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हो चुकी है। उन्होंने 20 मार्च, 2, 11 और 27 अप्रैल को भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर चर्चा की थी।

26 राज्य, 7 केंद्र शासित प्रदेशों में फैला संक्रमण

कोरोनावायरस का संक्रमण देश के 26 राज्यों में फैला है। 7 केंद्र शासित प्रदेश भी इसकी चपेट में हैं। इनमें दिल्ली, चंडीगढ़, अंडमान-निकोबार, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, पुडुचेरी और दादर एंड नगर हवेली शामिल हैं।

राज्य कितने संक्रमित कितने ठीक हुए कितनी मौत
महाराष्ट्र 22171 4199 832
गुजरात 8195 2545 493
दिल्ली 6923 2069 73
तमिलनाडु 7204 1959 47
राजस्थान 3814 2176 107
मध्यप्रदेश 3614 1676 215
उत्तरप्रदेश 3467 1653 79
आंध्रप्रदेश 1980 925 45
पंजाब 1823 166 31
पश्चिम बंगाल 1939 417 185
तेलंगाना 1196 751 30
जम्मू-कश्मीर 861 383 9
कर्नाटक 848 422 31
हरियाणा 703 300 9
बिहार 696 354 6
केरल 513 489 4
ओडिशा 377 68 3
चंडीगढ़ 173 24 3
झारखंड 157 78 3
त्रिपुरा 151 2 0
उत्तराखंड 68 46 1
छत्तीसगढ़ 59 49 0
असम 62 35 1
हिमाचल प्रदेश 55 35 3
लद्दाख 42 21 0
अंडमान-निकोबार 33 33 0
मेघालय 13 10 1
पुडुचेरी 12 8 0
गोवा 7 7 0
मणिपुर 2 2 0
अरुणाचल प्रदेश 1 1 0
दादर एंड नगर हवेली 1 0 0
मिजोरम 1 1 0

ये आंकड़े covid19india.org और राज्य सरकारों से मिली जानकारी के अनुसार हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में 67 हजार 152 संक्रमित हैं। 44 हजार 29 का इलाज चल रहा है। 20 हजार 916 ठीक हो चुके हैं, जबकि 2206 मरीजों की मौत हुई है।

Click short

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *