सबसे प्यारा भजन : धूल तेरे चरणों की सतगुरु चंदन और अबीर बनी

धूल तेरे चरणों की सतगुरु चंदन और अबीर बनी

जिसने लगाई निज मस्तक पर उसकी तो तकदीर बनी धूल तेरे चरणों की सतगुरु।।।।।।।।।।।

धूल तेरे चरणों की सतगुरु चंदन और अबीर बनी

जिसने लगाई निज मस्तक पर उसकी तो तकदीर बनी धूल तेरे चरणों की सतगुरु।।।।।।।।।।।

१- चरण धूलि से बढ़कर जग में चीज कोई अनमोल नहीं,

हर वस्तु का मोल है लेकिन इस वस्तु का मोल नहीं ,

देवता तरसे इस धूली को यह धूलि इतनी पावन

जन्म जन्म के रोग मिट आवे सुख से भर दे यह दामन

धूल तेरे चरणों की सतगुरु।।।।।।।।।।

२- पार हुई पत्थर की अहिल्या चरण धूलि को पाने से

निर्मल बन गया पंपासर भी शबरी के चरण छूआने से

गुरु चरणों की महिमा गावे युग युग से सब वेद पुराण

सब काले कौवे हंस बन गए चरण धूलि में करें स्नान धूल तेरे चरणों की सतगुरु।।।।।।।।।।।।।।।

३- जिन चरणों में गंगा बहती उन चरणों में मोक्ष मिले

पडा रहे जो चरण धूलि  में ना डोले ना कभी हिले

लाखों पत्थर हीरा बन गए प्यारे इन चरणों को थाम

पूरन सतगुरु के चरणों में बसते हैं मेरे चारों धाम

धूलतेरे चरणों की सतगुरु चंदन और अबीर बनी धूल तेरे चरणों की सतगुरु,।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।

Click short

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *