एक बार फिर से दोआबा हॉस्पिटल मैं हंगामा, देखते हैं इस बार भी प्रशासन किसकी सुनता है मरीज की या डॉक्टर की, क्या होगी डॉक्टर पर कार्रवाई,

समाचार आज तक जालंधर अमिता शर्मा;

एक बार फिर से दोआबा हॉस्पिटल सुर्ख़ियों में, मरीज की मौत पर हंगामा, इन सब हंगामों के बीच क्या आपने सुना कि डॉक्टर पर वास्तव में कोई कार्रवाई हुई, बात केवल राजीनामे तक ही निपट कर रह जाती है। ज्यादा से ज्यादा सिविल सर्जन एसआईटी बिठा देते हैं, जिसमें डॉक्टर और अस्पताल की फेवर में ही फैसले लिए जाते हैं। या मरने वाले के परिजन बहुत पढ़े लिखे हो तो केस लंबा खींचा जाता है अन्यथा जीत उसी अस्पताल की होती है जिस अस्पताल के डॉक्टर द्वारा लापरवाही की जाती है। चाहे उसमें मरीज की जान ही क्यों ना चली जाए। क्योंकि अस्पतालों में मरीज के प्रति प्यार और अपनापन तो बिल्कुल भी नहीं होता।

आज  देखते हैं दोआबा अस्पताल में मरने वालों के परिजनों को न्याय मिलता है या दोआबा अस्पताल के उस डॉक्टर के खिलाफ पुलिस द्वारा एफ आई आर दर्ज की जाती है जिस डॉक्टर की लापरवाही से बच्चे की जान चली गई।

Click short

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *