मोदी सरकार के कार्यालय में महंगाई की मार, लगातार तीसरे महीने रसोई गैस की कीमतों में उछाल : डॉ जसलीन सेठी*

Date 02/11/2019

*मोदी सरकार के कार्यालय में महंगाई की मार, लगातार तीसरे महीने रसोई गैस की कीमतों में उछाल : डॉ जसलीन सेठी*

Smachar aajtak, Jalandhar
पंजाब प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता और प्रधान जिला महिला कांग्रेस, पार्षद वार्ड -20 डा. जसलीन सेठी ने प्रेस नोट जारी करते हुए कहा केंद्र में दूसरी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद देश के आम आदमी को एक और झटका लगा है। देश की सबसे बड़ी सरकारी तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड (IOCL) ने घरेलू रसोई गैस के दाम बढ़ा दिए हैं लगातार तीसरे महीने रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में इजाफा किया गया है. देश के प्रमुख महानगरों में बिना-सब्सिडी वाला गैस सिलिंडर करीब 76.50 रुपये महंगा हो गया है जिससे आम आदमी को झटका लगा है इस बढ़ोतरी से पहले दिल्ली में एलपीजी सिलेंडर (14.2 किलो) के दाम 605 रुपये, ​कोलकाता में 630 रुपये, मुंबई में 574.50 रुपये और चेन्नई में 620 रुपये प्रति सिलेंडर था. इससे पहले एक अक्टूबर को दिल्ली में 14.2 किलो वाले नॉन सब्सिडी रसोई गैस की कीमतों में 15 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़ोतरी की गई थी. जबकि एक सितंबर को बिना सब्सिडी वाले रसोई गैस के दाम में 15.50 रुपये का इजाफा किया था. इसी कड़ी में अब लगातार तीसरे महीने बिना सब्सिडी वाले LPG सिलेंडर की कीमत में इजाफा देखने को मिला है यह सारे बढ़े हुए दामों का असर गरीब लोगों पर ही पड़ रहा है।
डॉ जसलीन सेठी ने बोलते हुए कहा कि मोदी सरकार की ओर से जारी की गई सभी स्कीमें फेल ही हुई है और जिसमें से एक उज्जवल योजना का सच यह है कि 90 हजार लोगों को सिलेंडर मिला जिसमें से 10% लोगों ने ही रीफिल कराई उजाला योजना लोगों के लिए राहत की बजाय मुसीबत बन गई है इस योजना के तहत ग्रामीण को निशुल्क गैस कनेक्शन दिया गया लेकिन अब दूसरा सिलेंडर खरीदने के लिए मजदूर तबके के पास पैसा नहीं है सिलेंडर मिलने पर इनको प्रति माह दिए जाने वाला केरोसीन भी बंद कर दिया गया एक माह तक गैस सिलेंडर पर खाना बनाने के बाद अब फिर से महिलाएं लकड़ी जलाकर चूल्हे पर धुएं से खाना बना रहे हैं।
डॉ सेठी ने रोष व्यक्त करते हुए कहा कि यह बढ़ी हुई कीमतों को घटाना चाहिए तथा आने वाले समय में मोदी सरकार सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

Click short

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *