यदि कृषि अध्यादेशों के बारे में बादल परिवार और मुख्य मंत्री अमरिन्दर सिंह और वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल दोगली नीति न इस्तेमाल कर इन का शुरू में ही डटकर विरोध करते तो यह घातक बिल लोक सभा तक पहुंचने ही नहीं थे: चीमा

*भाजपा का मुंह चिड़ा रही है एम.एस.पी से आधे मूल्य पर बिक रही मक्का की फसल- हरपाल सिंह चीमा*
*👉-सोम प्रकाश अस्तीफा देकर किसानों के साथ हों खड़े -‘आप’*
*👉🏿-नेता प्रतिपक्ष के नेतृत्व में ‘आप’ विधायकों और नेताओं ने किया होशियारपुर की मंडी का दौरा*

समाचार आज तक,
*होशियारपुर, 19 सितम्बर 2020*
आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब के सीनियर नेता और नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीमा ने समूची भाजपा लीडरशिप को होशियारपुर समेत दोआबा की मंडियों का हाल जानने के लिए कहा, जहां प्राईवेट व्यापारियों की ओर से मक्का की फसल ऐलाने गए कम से कम समर्थन मूल्य (एमएसपी) प्रति क्विंटल 1870 रुपए की बजाए आधे मूल्य पर खरीदी जा रही है।
चीमा ने होशियारपुर से भाजपा के सांसद और केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश को संबोधित होते कहा कि वह (सोम प्रकाश) किसान विरोधी काले कानूनों (कृषि अध्यादेशों) की वकालत करने की बजाए मोदी मंत्री मंडल से तुरंत अस्तीफा दे कर पंजाब और पंजाब के किसानों के साथ खड़े हों या फिर हरसिमरत कौर बादल की तरह लोगों के गुस्से का सामना करने के लिए तैयार रहें।
शनिवार को ‘आप’ विधायकों और नेताओं के प्रतिनिधिमंडल के साथ हरपाल सिंह चीमा ने होशियारपुर की अनाज मंडी का दौरा किया, जहां किसान अपनी मक्का की फसल को प्रति क्विंटल 650 रुपए से 1200 रुपए तक बेचने के लिए मजबूर हैं, जबकि केंद्र सरकार की तरफ से इस सीजन के लिए मक्का की फसल के लिए प्रति क्विंटल 1870 रुपए ऐलान किया गया है।
‘आप’ के प्रतिनिधिमंडल में चीमा के साथ विपक्ष की उप नेता बीबी सरबजीत कौर माणूंके, विधायक मीत हेयर और गढ़शंकर से विधायक जै सिंह रोड़ी विशेष तौर पर पहुंचे हुए थे।
हरपाल सिंह चीमा ने होशियारपुर मंडी एसोसिएशन के प्रधान रमेश चंद्र अग्रवाल की मौजूदगी में कहा कि एमएसपी के ऐलान के बावजूद दोआबा समेत पंजाब की मंडियों में मक्का की जो दुर्दशा हो रही है। यह भाजपा समेत उन सब के लिए चेतावनी है कि यदि खेती आधारित तीनों काले कानून लोक सभा की तरह राज्य सभा में भी पास हो गए तो वह दिन दूर नहीं जब पंजाब और हरियाणा में एमएसपी के ऐलान के बावजूद गेहूं और धान की फसल मक्का की तरह प्राईवेट व्यापारी आधे मूल्य पर मनमर्जी के साथ खरीदेंगे।
चीमा ने कहा कि यदि कृषि अध्यादेशों के बारे में बादल परिवार और मुख्य मंत्री अमरिन्दर सिंह और वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल दोगली नीति न इस्तेमाल कर इन का शुरू में ही डटकर विरोध करते तो यह घातक बिल लोक सभा तक पहुंचने ही नहीं थे।
चीमा ने मक्का उत्पादकों की हो रही लूट रोकने के लिए पंजाब सरकार से मांग की है कि वह मार्कफैड जैसी अपनी खरीद एजेंसियों को मंडियों में उतारे और किसानों के हुए नुक्सान की भरपाई अपने से बोनस जारी करके करें।
चीमा समेत ‘आप’ विधायकों ने ऐलान किया कि यदि पंजाब के भाजपा नेताओं ने कृषि विरोधी काले कानूनों का विरोध न किया तो ‘आप’ बादलों की तरह सोम प्रकाश, गुरदासपुर से सांसद सनी दियोल और प्रदेश भाजपा प्रधान अश्वनी शर्मा के घरों का घेराव करेगी।
इस मौके स्थानीय ‘आप’ नेताओं में गुरविन्दर सिंह पाबला, गुर ध्यान सिंह मुलतानी, हरमीत सिंह औलख, जसवीर सिंह गिल, सन्दीप, जसपाल चेची, एडवोकेट करनवीर सिंह घूमण, गुरदीप सिंह हैप्पी, मोहन लाल, गुरदीप सिंह हैप्पी और लवदीप सिंह गिल मौजूद थे।

Click short

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *