10 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए लोहियां के बी.डी.पी.ओ. गिरफ्तार

समाचार आज तक : जालंधर रेंज विजीलैंस ब्यूरो द्वारा 10 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए लोहियां के बी.डी.पी.ओ. गुरमीत सिंह काहलों को आज ज्यूडीशियल मजिस्ट्रेट राजबीर कौर की अदालत ने एक दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया है।

शिकायतकत्र्ता मनमोहन सिंह वासी गांव नवांपिंड खालेवाल, शाहकोट ने विजीलैंस ब्यूरो में शिकायत की थी  कि वह 30 सितम्बर को ब्लाक विकास व पंचायत अधिकारी लोहियां से रिटायर हुआ है। उसके पास ग्राम पंचायत निहालूवाल को जारी विकास कार्यों के लिए 16 लाख रुपए के फंड जारी हुए थे जिन्हें ग्राम पंचायत द्वारा विभिन्न विकास कार्यों में खर्चा गया था। इनके यूज सर्टीफिकेट तैयार करके संबंधित सरपंच और जे.ई. से हस्ताक्षर करवाकर बी.डी.पी.ओ. गुरमीत सिंह काहलों के साइन के लिए 12.11.18 को उनके समक्ष पेश किए गए। बी.डी.पी.ओ. ने उससे कहा कि इन यूज सर्टीफिकेटों को जारी करने के 2 प्रतिशत के हिसाब से 32 हजार रुपए बनते हैं जो उसे रिश्वत के तौर पर दिए जाएं तो सर्टीफिकेटों पर साइन करेगा।

उसने बी.डी.पी.ओ. काहलों से मिन्नत की कि उसके पास इतने पैसे नहीं हैं क्योंकि वह रिटायर हो चुका है और उसे रिटायरमैंट के बैनीफिट भी नहीं मिल सके। इस पर बी.डी.पी.ओ. ने उसे कहा कि तुम्हें 2 हजार रुपए कम कर देता हूं पर 30 हजार रुपए देने ही होंगे। उसने अधिकारी से कहा कि वह 30 हजार रुपए इकट्ठे नहीं दे सकता इसलिए उसे 10-10 हजार की 3 किस्तें देने को कहा गया। आज 14 नवम्बर को पहली किस्त देनी तय की गई थी। इसके बाद मनमोहन सिंह ने विजीलैंस से शिकायत की जिस पर कार्रवाई करते हुए एक टीम गठित की गई जो शिकायतकत्र्ता के साथ लोहियां बी.डी.पी.ओ. दफ्तर गई। इस दौरान विजीलैंस टीम के अधिकारी निरंजन सिंह, मनदीप सिंह आदि ने बी.डी.पी.ओ. को रिश्वत के 10 हजार रुपए लेते रंगे हाथों पकड़ा। इस मौके पर आरोपी पर केस नंबर 23 (7 पीसी एक्ट, एमैंडमैंट) 2018 के तहत दर्ज करके गिरफ्तार किया गया।

Click short

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *